यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर नहीं जानेंगे तो खा सकते हैं धोखा

यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर काफी लोग नहीं समझ पाते हैं इसकी वजह से कुछ वित्तीय सलाहकार भ्रमित करके अपना मनचाहा निर्णय लेने को मजबूर कर देते हैं।

अधिकतर लोग तो इस वजह से धोखा खा जाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि, अगर मैनें सामने वाले से पूँछ लिया कि, इस शब्दावली का क्या अर्थ है तो सामने वाला व्यक्ति मुझे कम जानकार समझ लेगा इससे मेरा अपमान हो सकता है।

ऐसी ही मानसिकता किसी को भी धोखा दिलवाती है। आपको किसी भी प्रकार का धोखा न हो इसी लिए मैं आपको यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर समझाना चाहता हूँ।

यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर

यूलिप और म्यूचुअल फंड दोनों का मार्केट में लगता है, लेकिन यूलिप में आपको रिस्क कवर मिलता है जबकि म्यूचुअल फंड में नहीं। यही इनका सबसे प्रमुख अंतर है

यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर

और स्पष्ट तरीके से बतायें तो यूलिप एक इंश्योरेंस प्रोडक्ट है और इस पर रेगुलेट IRDAI करता है।

जबकि म्यूचुअल फंड एक निवेश उत्पाद है और इस पर रेगुलेट SEBI करती है।

अर्थात सेबी ही म्यूचुअल फंड के नियम बनाती हैं।

अधिक सीखें : 2022 में एलआईसी का सबसे अच्छा प्लान कौन सा है ? आज जानिए इसका उत्तर

यूलिप और म्यूचुअल फंड के बीच का अंतर अगर अपने अनुभव से बतायें तो यूलिप में लम्बे समय तक निवेश करने में फायदा है और यदि आप कम समय के लिए निवेश करना चाहते हैं तो आपके लिए म्यूचुअल फंड ही सही रहेगा।

Leave a Comment